बचपन

बचपन है जीवन का प्यारा सा हीस्सा

क़िस्से कहानिया हर पल का हिस्सा

लाड़ और दुलार उन पलों का हिस्सा

 

खेल कूद हर छन का हिस्सा

किताबें और खिलोने खुशियों का हिस्सा

खाने और सोने की कोई चिंता  कोइ डर

बचपन जिवन का अनमोल सा किस्सा

 जिसका हर पल सुनेहरा सा हिस्सा

सबका बचपन  होता है खुशहाल

खाने को तरस जातें है बच्चे हज़ार

माँ बाप हो अगर छमता 

तोह बचपन खो देते है बच्चे हज़ार

है हममे सामर्थ्य अगर

तोह आओं इनका  बचपन करें खुशहाल

जिसे याद कर के ये बच्चे भी मुस्कुराएं हर बार

आओ मिल करे एक सुनहरे कल का निर्माण

Atul Sharma, CRY Volunteer, Bangalore

Leave a Reply